Indian forum: Romance & Friendship - Pyar kyun ho jata hai?
Share this topic
4 May 2015 12:01

Assalam o ALaikum, Aap
log ye btaye k pyar kyun
hota hai? Mere hisaab se
sache pyar mey kabhi
khushi nai milti hamesha
gham hi gham. Aap apni
rae dain.

5 May 2015 17:47

5 May 2015 17:49
Post is hidden!
5 May 2015 17:50

Chahat Se Bhra Hua Hai Machalta
Dil,
Kaafir Hui Mastani Nazar Dheere-
Dheere,

5 May 2015 17:56

by natural !

5 May 2015 21:31

उसको पटाने का मेरा कोई मन नही था....
पर दोस्तो ने कहा भाई हमैं वही भाभी चाहिए..
फिर क्या दोस्ती कट्टर " फिर किधर भी टक्कर "..

5 May 2015 21:32

कहने में तो मेरा दिल एक है लेकिन
जिसको दिल दिया वह हजारों में एक
है

5 May 2015 21:42

Quote by ____KING____
कहने में तो मेरा दिल एक है लेकिन
जिसको दिल दिया वह हजारों में एक
है

payar kishi jagh waqt ka glum nhi hota bas ho jata hi kahi bhi kishi se bhi

6 May 2015 11:51
Post is hidden!
6 May 2015 15:06

Quote by rj-sud.
Aa hi jata hai dil.. jispe aana hota hai.. Pyaar diwana hota hai mastaana hota hai >:

Har khusi se har gum se begaana hota h

6 May 2015 15:12

Nazro Se Jab Nazar Ka
Takrar Hota Hai
Har Mod Par Kissi Ka
Intezaar Hota Hai
Dil Rota Hai Zakham
Haste Hai
Isi Ka Naam To Pyaar
Hota Hai....

6 May 2015 15:48

Dusre couples ko dekh kar singles sochte hai kash.. Koi mil jaye. Phir jab koi unki pasand ka mil jata hai toh unpar dil aa jata hai. Akhir Dil tOh BaccHa hAi jI.

6 May 2015 15:55
Post is hidden!
6 May 2015 16:00
Post is hidden!
6 May 2015 16:24

Jab sar pe Bhut sawar hota hai.

6 May 2015 18:15

Yaar Hi Kya!!
**** USKO MERE HAL KA SA EHSAAS
TO HAI
BEDARD SAHI WOH MERI HUMRAAZ
TO HAI
PYAAR KI GAWAHI MERE AANKHON
SE NA MAANG
BARASTI NAHIN MAGAR DIL UDAAS
TO HAI.

15 Jun 2015 16:38

Quote by apurv
Dusre couples ko dekh kar singles sochte hai kash.. Koi mil jaye. Phir jab koi unki pasand ka mil jata hai toh unpar dil aa jata hai. Akhir Dil tOh BaccHa hAi jI. :D

sahi kaha bhai

15 Jun 2015 17:24

Y kesa qus h .. ..

Edited by KitKat--flory / 15 Jun 2015 17:32
16 Jun 2015 06:05

अक्षर की "मौत" और तीन अक्षर के "जीवन"
में ढाई अक्षर का "दोस्त" हमेंशा बाज़ी मार जाता
हैं.. क्या खुब लिखा है किसी ने ... "बक्श देता है
'खुदा' उनको, ... ! जिनकी 'किस्मत' ख़राब होती है
... !! वो हरगिज नहीं 'बक्शे' जाते है, ... ! जिनकी
'नियत' खराब होती है... !!" न मेरा 'एक' होगा, न
तेरा 'लाख' होगा, ... ! न 'तारिफ' तेरी होगी, न
'मजाक' मेरा होगा ... !! गुरुर न कर "शाह-ए-शरीर"
का, ... ! मेरा भी 'खाक' होगा, तेरा भी 'खाक' होगा
... !! जिन्दगी भर 'ब्रांडेड-ब्रांडेड' करने वालों ... !
याद रखना 'कफ़न' का कोई ब्रांड नहीं होता ... !!
कोई रो कर 'दिल बहलाता' है ... ! और कोई हँस
कर 'दर्द' छुपाता है ... !! क्या करामात है 'कुदरत'
की, ... ! 'ज़िंदा इंसान' पानी में डूब जाता है और
'मुर्दा' तैर के दिखाता है ... !! 'मौत' को देखा तो
नहीं, पर शायद 'वो' बहुत "खूबसूरत" होगी, ... !
"कम्बख़त" जो भी 'उस' से मिलता है, "जीना छोड़
देता है" ... !! 'ग़ज़ब' की 'एकता' देखी "लोगों की
ज़माने में" ... ! 'ज़िन्दों' को "गिराने में" और 'मुर्दों'
को "उठाने में" ... !! 'ज़िन्दगी' में ना ज़ाने कौनसी
बात "आख़री" होगी, ... ! ना ज़ाने कौनसी रात
"आख़री" होगी । मिलते, जुलते, बातें करते रहो
यार एक दूसरे से ना जाने कौनसी "मुलाक़ात"
"आख़री होगी" ... !!

16 Jun 2015 06:07

Pyar tho bhagavan ka nisani hai